आयुष्मान भारत योजना क्या है और इसका लाभ कैसे लें जानिए विस्तार से

आयुष्मान भारत योजना प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी के द्वारा सन 2019 में चालू किया गया था इस योजना को अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा की ओबामा केयर की तरफ से, भारत में मोदी केयर के नाम से भी जाना जाता है

आयुष्यमान भारत योजना क्या है और इसके क्या फायदे हैं

आयुष्मान भारत योजना की खास बातें

  • आयुष्मान भारत योजना के कई सारे फायदे हैं
  • आयुष्मान भारत योजना में रजिस्टर करने के बाद आप भारत के किसी भी सरकारी हॉस्पिटल में ₹500000 तक के इलाज को फ्री में करवा सकते हैं
  • इस योजना में भाग लेने के बाद आपके नाम से ₹500000 का बीमा हो जाता है
  • आयुष्मान भारत योजना के तहत आप सिर्फ सरकारी अस्पताल में ही नहीं बल्कि प्राइवेट अस्पतालों में भी ₹500000 का इलाज फ्री में करवा सकते हैं
  • ₹500000 में आप अपने परिवार के किसी भी सदस्य का इलाज फ्री में 1 साल के अंदर करवा सकते हैं
आयुष्मान-भारत-योजना-क्या-है.webp

आयुष्यमान भारत योजना क्या है Pradhanmantri Shri Narendra Modi के द्वारा चालू किए गए इस योजना के अंतर्गत गरीब और असहाय लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए इस योजना को शुरू किया गया जिसके अंतर्गत इस योजना का लाभ लेने वाले सभी लोगों को भारत सरकार की आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत ₹500000 की राशि इलाज करवाने अथवा चिकित्सा के लिए सहायता के रूप में प्रदान की जाती है

अगर बात करें आयुष्मान भारत कार्ड में मिलने वाले फायदे की तो इस कार्ड का उपयोग आपके पूरे परिवार के लिए होता है ना कि एक व्यक्ति के लिए यानी कि अगर आपके परिवार में 3 या 4 सदस्य हैं तो आप इन सभी सदस्यों को मिलाकर 1 साल के अंदर ₹500000 तक का इलाज करवा सकते हैं और 1 साल पूरे होने के बाद आपको अगले साल के लिए ₹500000 तक की लिमिट फिर मिल जाती है

Ayushman Bharat card आयुष्मान भारत कार्ड के द्वारा होने वाले खर्च में आप सिर्फ दवाइयां और इलाज ही नहीं बल्कि इलाज में उपयोग किए गए सभी खर्चों को शामिल कर सकते हैं जैसे कि वाहन का खर्च दवाइयों का खर्च या फिर डॉक्टर की फीस इसके अलावा अस्पताल में भर्ती होने से पहले और अस्पताल से बाहर निकलने के बाद 15 दिन तक का सारा खर्च भी आप इसमें जोड़ सकते हैं

हालांकि आयुष्मान भारत के द्वारा हमें दो प्रकार के कार्ड देखने को मिलते हैं जिनमें आयुष्मान भारत योजना के तहत गोल्ड कार्ड दिया जाता है यही दूसरी तरफ आयुष्मान भारत के डिजिटल मिशन के तहत हेल्थ आईडी कार्ड प्रदान किया जाता है लेकिन अगर इन दोनों कार्ड में अंतर की बात करें तो इन दोनों कार्ड में समानता बिल्कुल भी देखने को नहीं मिलती है

आयुष्मान भारत हेल्थ आईडी कार्ड के फायदे health ID card और आयुष्मान भारत कार्ड को लेकर बहुत सारे लोग कंफ्यूज हो जाते हैं कि आखिर दोनों में अंतर क्या है और दोनों में क्या-क्या फायदे होते हैं तो यहां पर आपको बता दें कि यह आईडी कार्ड में आयुष्मान भारत की तरह किसी भी प्रकार का फ्री ट्रीटमेंट फैसिलिटी नहीं प्रदान किया जाता है यानी कि आप इस कार्ड के तहत फ्री ट्रीटमेंट नहीं करवा सकते हैं

हालांकि इसमें कुछ फायदे भी देखने को मिलते हैं जैसे कि अगर आप अपनी हेल्थ को लेकर किसी बड़े डॉक्टर के साथ कंसल्ट करना चाहते हैं तो आप आसानी से अपने मोबाइल फोन टेबलेट या कंप्यूटर के द्वारा ऑनलाइन कंसल्ट कर सकते हैं यानी कि हेल्थ आईडी कार्ड आपके हेल्थ को मेंटेन करने के लिए बनाया गया है ना कि ट्रीटमेंट के लिए, यानी कि इस कार्ड के तहत आप आपने स्वास्थ्य के डिजिटल रिकॉर्ड को मेंटेन कर सकते हैं जिससे कि आने वाले भविष्य में आपकी पुरानी ट्रीटमेंट के सभी रिकॉर्ड को मेंटेन किया जा सकता है

Note – अब तक आप यह अच्छी तरह से समझ भी चुके होंगे कि इन दोनों कार्ड में क्या अंतर है और दोनों कार्ड को किस तरह से उपयोग किया जा सकता है तो चलिए आप जान लेते हैं कि आयुष्मान कार्ड को ऑनलाइन कैसे बनवाया जा सकता है

इसे भी पढ़ें : ईपीएफओ ई नॉमिनेशन करवाने के क्या फायदे हैं

Aayushman Bharat card कैसे बनवाएं

आयुष्मान भारत योजना का लाभ उठाने और कार्ड बनवाने के लिए आपको आधिकारिक वेबसाइट pmjay पर जाना होगा इसके बाद आपको आई एम एलिजिबल का ऑप्शन दिखाई देगा इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपको अपने मोबाइल नंबर और ओटीपी के द्वारा लॉगइन करना होगा और लॉग इन करने के बाद आपके सामने एक फॉर्म खुलकर आ जाएगा इस फॉर्म को भरने के लिए आपके पास राशन कार्ड का होना अनिवार्य है इसके बाद आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें

  • सबसे पहले अपना राज्य सेलेक्ट करें
  • इसके बाद राशन कार्ड वाले ऑप्शन पर क्लिक करें
  • राशन कार्ड का नंबर डालें
  • Ration card number डालने के बाद अपना नाम सर्च करें
  • और अपने परिवार के जिस सदस्य के नाम से आप इस कार्ड को अब बनवाना चाहते हैं उनकी सारी डिटेल भरकर सबमिट कर दें

यहां पर एक बात का विशेष ध्यान रखें कि जब भी आप इस कार्ड को खुद बनाते हैं या फिर बनवाते हैं तो अपने साथ राशन कार्ड और आधार कार्ड जरूर रखें और जब आप का रजिस्ट्रेशन कंप्लीट हो जाता है तो रजिस्ट्रेशन कंप्लीट होने के बाद आपको एक नंबर प्राप्त होता है इस नंबर को ले जाकर सीएससी सेंटर के द्वारा आप आसानी से आयुष्मान कार्ड प्राप्त कर सकते हैं

निष्कर्ष इन सारी योजनाओं को समझने के बाद यह निष्कर्ष निकलता है की आयुष्मान भारत और आयुष्मान भारत के अंदर आने वाले हेल्थ आईडी कार्ड दोनों एक दूसरे से भिन्न होते हुए भी बहुत ही जरूरी है और आपको इन दोनों कार्ड को जरूर बनवाना चाहिए

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here