ब्रांड क्या है और ब्रांड कैसे बनाएं

हेलो दोस्तों मेरा नाम जानवी शंकर तिवारी है | और आज की इस पोस्ट में, हम जानेंगे की ब्रांड क्या है | ब्रांड क्यों जरूरी है | हमें ब्रांड कैसे बनाने चाहिए | तो चलिए जानते हैं | ब्रांड क्या है | और ब्रांड कैसे बनाएं के बारे में |

Brand क्या है

ब्रांड क्या है – ब्रांड कंपनी का सबसे बड़ा एसेट है | अमेरिकन मार्केटिंग एसोसिएशन के अनुसार ब्रांड एक नाम है | टर्म है | सिंबल है | डिजाइन है | या फिर कॉन्बिनेशन है | इसे अगर आसान भाषा में समझें तो ब्रांड एक नाम है | साइन है | सिंबल है | और इसका एक कॉन्बिनेशन है |

Brand क्यों जरूरी है

ब्रांड आपकी किसी भी सामान्य सर्विस को आईडेंटिफाई करने में आपकी मदद करता है | साथ ही साथ यह दूसरे प्रतियोगियों से आपको अलग करता है | इससे आपके कंपनी का एक पहचान बनता है | और लोग जब आपकी किसी भी प्रोडक्ट को खरीदते हैं | और उसको इस्तेमाल करते हैं | और उसका रिजल्ट अच्छा आता है | तो लोग आपके ब्रांड पर भरोसा करते हैं | यानी आपकी कंपनी के ऊपर भरोसा करते हैं | इसलिए आप जो भी प्रोडक्ट या सर्विस प्रोवाइड करते हैं | उसके लिए जरूरी है | कि आपका एक ब्रांड होना चाहिए |

Brand बनाने के क्या-क्या फायदे हैं

जब आप अपने कंपनी के या फिर अपनी सर्विस के लिए अपनी कंपनी का कोई एक ब्रांड बनाते हैं | उसका कोई एक सिंबल बनाते हैं | या फिर उसका कोई लोगों बनाते हैं | तो आपकी कंपनी के ऊपर जो लोगों का भरोसा होता है | वह तो होता ही है, साथ ही साथ आप अपने ब्रांड को लोगों को | या फिर उसके साइन को, यानी कि पूरा इसके कॉन्बिनेशन को | ट्रेडमार्क लॉ के अंतर्गत, रजिस्टर भी करवा सकते हैं | जिससे कोई दूसरा आपके ब्रांड की कॉपी ना कर सके |

ब्रांड-क्या-है.jpg
ब्रांड क्या है

अगर आपने अपने कंपनी के ब्रांड को, या फिर उसके नाम को | ट्रेडमार्क लॉ के अंतर्गत रजिस्टर करवा लिया है | और इसके बाद भी, अगर कोई आपके प्रोडक्ट का कॉपी करता है | तो आप उसके खिलाफ लीगल एक्शन भी ले सकते हैं | लेकिन यहीं पर अगर आप इसको रजिस्टर नहीं करवाते हैं | तो आप किसी के खिलाफ कोई भी एक्शन नहीं ले सकते हैं |

ब्रांड की पहचान क्या है

ब्रांड क्या है – आप सोच रहे होंगे कि आखिर ब्रांड की बात तो हर कोई करता है | लेकिन इस ब्रांड की पहचान क्या है, आप कभी भी मार्केट में जाते हैं | वहां से कोई सामान, आप बिना ब्रांड का खरीद के लाते हैं | और वहीं पर आप एक ऐसा सामान खरीद के लाते हैं, जो कि ब्रांड का है | सामान दोनों एक ही है, आप दोनों को खोलते हैं | और खोलने के बाद अगर दोनों को एक साथ रख दिया जाए | तो आप खुद यह नहीं पहचान सकते हैं | कि इसमें कौन से सामान के ऊपर ब्रांड है | और कौन सा बिना ब्रांड का है | ब्रांड आपके प्रोडक्ट के अंदर नहीं दिखता है |

Example

ब्रांड क्या है – उदाहरण के लिए अगर आप एक फेवीकोल का डिब्बा ले लेते हैं | और एक नॉर्मल फेवीकोल ले लेते हैं | जो सेम फेविकोल के टाइप का ही दिखता है | और उसके बाद अगर दोनों को आप डिब्बे से बाहर निकाल लेंगे | तो आप यह नहीं पहचान सकते हैं | कि इसमें बिना ब्रांड का कौन सा है | मतलब की ब्रांड एक प्रोडक्ट की पहचान के लिए है | ना कि उसके अंदर पैक किए हुए सामान के लिए | लेकिन अगर आप का प्रोडक्ट अच्छा होता है, तो लोगों को आपके ब्रांड के ऊपर भरोसा हो जाता है | और लोग आपके उस प्रोडक्ट की डिमांड करते हैं |

ब्रांड किसके लिए जरूरी है

ब्रांड क्या है – हालांकि आप जब भी मार्केट से कोई सामान खरीदने जाते हैं | तो आप यहां पर एक खास चीज ढूंढते हैं | वह ब्रांड आप अगर एक मोबाइल फोन भी खरीदने जाते हैं | तो आपके दिमाग में यह चीज सबसे पहले आती है | कि हम कौन सी कंपनी का लेंगे | आप जिस कंपनी का लेते हैं, उसका एक लोगों भी होता है | आप उससे उस कंपनी की पहचान करते हैं |कि यह कौन सी कंपनी का है | कहीं यह लोकल तो नहीं है, अब बात आती है कि, आखिर ब्रांड किसके लिए जरूरी होता है |

ऑनलाइन या ऑफलाइन ब्रांड क्या है और ब्रांड कैसे बनाएं

ब्रांड क्या है – आप कोई भी काम करते हैं, आप चाहे ऑफलाइन करते हैं, या ऑनलाइन करते हैं | ब्रांड की बात अगर करें तो, कि brand kya hai, ब्रांड सबके लिए जरूरी है | क्योंकि अगर ऑनलाइन ब्रांड की बात करें तो, आप एक मार्केटिंग कंपनी चलाते हैं | या फिर कोई यूट्यूब चैनल चलाते हैं |

या फिर कोई वेबसाइट चलाते हैं | तो यहां पर आपसे सबसे पहले एक टाइटल पूछा जाता है | वह टाइटल क्या होता है, आपके वेबसाइट का या फिर आपके चैनल का 1 नाम होता है | जो कि आपके चैनल का ब्रांड होता है | या फिर आपके वेबसाइट का ब्रांड होता है | उसी के हिसाब से आप अपने वेबसाइट का, या फिर आप अपने चैनल का 1 लोगों बनाते हैं | एक सिंबल बनाते हैं | इसलिए आप जब भी कोई ऑनलाइन या ऑफलाइन काम करते हैं | तो कोई आपके सामान से जाने, या ना जाने, लेकिन आपके नाम से जरूर जान जाता है |

ब्रांड क्या है – जैसे अगर आप कोई दुकान खोलते हैं, तो उस दुकान के ऊपर भी आप एक नाम रखते हैं | कि आपकी दुकान का क्या नाम है | और जब भी लोग कोई सामान लेते हैं | या फिर किसी दूसरे को आपके यहां से सामान लेने की सलाह देते हैं | तो आप अपनी दुकान का जो नाम रखते हैं | वह नाम सबसे पहले आता है, कि उस दुकान से सामान ले करके आओ | यानी कि जो आपकी दुकान का नाम है | वह आपके दुकान का एक ब्रांड है | इसलिए बहुत ही जरूरी है, कि जब भी आप कोई ऑनलाइन या ऑफलाइन काम करते हैं | तो आप उसका एक ब्रांड जरूर बनाना चहिए |

ब्रांड कैसे बनाए

ब्रांड क्या है – हालांकि यह एक बहुत ही अहम सवाल है, कि हम खुद को एक ब्रांड कैसे बनाएं | apna brand kaise banaye | खुद को ब्रांड बनाने के 3 स्टेप हैं | जिन स्टेप को अगर फॉलो करते हैं, तो आप आसानी से अपना एक ब्रांड बिल्ड कर सकते हैं | तो पहले यह समझ लेते हैं कि, यह 3 पॉइंट क्या है | किसी भी ब्रांड को बिल्ड करने के लिए |
1 progress
2 Express
3 invest
यह तीन ऐसे पॉइंट है, जिनको आप अगर समझ लेते हैं | तो आपके लिए काफी आसानी हो जाती है, अपना ब्रांड बनाने के लिए | तो चलिए पहले इसको समझते हैं, बहुत ही आसान भाषा में |

Progress

ब्रांड क्या है – अगर आप ही की स्टूडेंट है, तो क्या आप किसी ऐसे टीचर से पढ़ना चाहेंगे | जिसको किसी विषय के बारे में पता ही ना हो, या फिर क्या आप ऐसे डॉक्टर से ट्रीटमेंट लेना चाहोगे, जिसको जानकारी ही ना हो | क्या आप ऐसे कुक से खाना बनवाना चाहोगे, जिसको बनाना ही ना आता हो | नहीं ! हालांकि आप इस आर्टिकल को भी इसी लिए पढ़ रहे हो | कि आपको यह विश्वास है, कि यहां पर आपको ब्रांड के बारे में कुछ अच्छी जानकारी मिलेगी |

चाहे कोई कंपनी हो, या फिर कोई इंडिविजुअल हो | एक ब्रांड को बनाने के लिए प्रोग्रेस बहुत ही जरूरी होता है | क्योंकि लोग भरोसा तब करेंगे | जब आप प्रोग्रेस करेंगे, आपने कई बार देखा होगा कि डॉक्टर बहुत सारे होते हैं | लेकिन नाम किसी एक का होता है | वकील बहुत सारे होते हैं, लेकिन नाम किसी एक का ही होता है | उसी तरह से आप को अपना ब्रांड बनाने के लिए, पहले प्रोग्रेस बहुत ही जरूरी है |

Express

ब्रांड क्या है – आपको अपने ब्रांड को बिल्ड करने के लिए, लोगों के बीच में आना बहुत जरूरी है | अगर आप लोगों तक पहुंचेंगे नहीं |लोग आपको जानेंगे नहीं, तो आप का ब्रांड बनेगा कैसे | अगर मान लीजिए कि, आपने एक ब्रांड बनाया | लेकिन उसको लोगों तक नहीं पहुंचाया | तो क्या वह ब्रांड, एक ब्रांड रह जाएगा | नहीं ! क्योंकि अपने ब्रांड को बिल्ड करने के लिए बहुत ही जरूरी है, लोगों से मिलना | लोगों तक अपनी पहुंच को बढ़ाना | इसलिए आपको हमेशा लोगों के साथ एक्सप्रेस होना पड़ेगा | लोगों के साथ मिलना पड़ेगा | तब जाकर आपकी एक पहचान बनेगी | इसलिए बहुत ही जरूरी है, कि ब्रांड बनाने के लिए आपको अपने ब्रांड को लोगों के सामने लाना |

Invest

ब्रांड क्या है – अगर आपको अपने ब्रांड को अच्छी तरह से बिल्ड करना है | तो इसके लिए आपको इन्वेस्ट करना भी जरूरी है | कोई भी कंपनी अपने ब्रांड को बिल्ड करने के लिए | लोगों तक पहुंचाने के लिए, लोगों को याद रखने के लिए | अपने ब्रांड के ऊपर कुछ ना कुछ पूंजी इन्वेस्ट जरूर करती है | इसलिए आपको अपने ब्रांड को लोगों के दिमाग में रखने के लिए, आपको यहां पर कुछ पूंजी भी इन्वेस्ट करना होगा |

ब्रांड क्या है – क्योंकि जब तक आप इन्वेस्ट नहीं करेंगे, लोगों को बार-बार वह दिखाई नहीं देगा | तब तक लोग आपके ब्रांड को कैसे याद रखेंगे | इसलिए जरूरी है कि, आप जब अपने ब्रांड को लोगों तक पहुंचाते हैं | तो उसके लिए आपको इन्वेस्ट करना जरूरी है | आप यहां पर अपनी बचत का 2 परसेंट या 5 परसेंट इन्वेस्ट कर सकते हैं | जिससे कि आपका ब्रांड, लोगों के सामने आए | और लोग आपकी ब्रांड को याद रख सकें |

निष्कर्ष

दोस्तों आज की इस पोस्ट में, हमने समझा कि ब्रांड क्या है, हमें अपने ब्रांड को बिल्ड करना क्यों जरूरी है | और हम अपने ब्रांड को किस तरह से बिल्ड कर सकते हैं | और अपने ब्रांड को बिल्ड करने के लिए यह जो तीन चीजें हैं | इन तीन चीजों का उपयोग | अगर आप अपने ब्रांड को बिल्ड करने के पहले हमेशा ध्यान देते हैं | तो आपका ब्रांड जरूर सक्सेसफुल होगा | और लोगों के दिमाग में एक छाप छोड़ जाएगा | जिससे लोग आपको याद रखेंगे | दोस्तों उम्मीद है, आपको यह आर्टिकल (ब्रांड क्या है) पसंद आया होगा | अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें | धन्यवाद |

releted post :- शेयर बाजार में शूरूआत करें

Sharing Is Caring:

Leave a Comment