मेथी के फायदे, डायबिटीज के मरीजों के लिए अमृत है मेथी

मेथी के फायदे : मेथी डायबिटीज के रोगियों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होती है साथ ही साथ या और कई सारी अन्य बीमारियों के लिए भी काफी कारगार औषधि है

मेथी के फायदे

आज हम बात करेंगे मेथी के दानों के फायदे के बारे में भारत में मेथी एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है। मेथी का इस्तेमाल सब्जी से लेकर पराठे तक में किया जाता है। मेथी हर घर में सामान्य मसालों की तरह उपयोग की जाने वाली एक आयुर्वेदिक औषधि होती है। मेथी को बढ़ने के लिए पर्याप्त धूप और उपजाऊ मिट्टी की जरूरत होती है। भारत में सामान्य रूप से इसकी खेती की जाती है। मेथी की सबसे बड़े उत्पादों मैं भारत का नाम भी शामिल है। मेथी की पत्तियों का इस्तेमाल सब्जी के रूप में किया जाता है और इसके बीजों से मसाले एवं दवाइयां तैयार की जाती है।

मेथी-के-फायदे-1.webp

मेथी के फायदे स्वस्थ मस्तिष्क के लिए।

मेथी मैं कई प्रकार के लाभकारी गुण होते हैं उनमें से एक यह गुण हैं कि यह हमारे मस्तिष्क को स्‍वस्‍थ और निरोगी रखता है। यह अल्जाइमर Alzheimer’s जिसे हम भूलने की बीमारी कहते हैं और पार्किंसंस रोगो के लक्षणों को कम कर उनमें होने वाले नुकसानों से हमारी रक्षा करता है और मेथी बीच के पाउडर का उपयोग।अल्जाइमर रोग के साथ साथ।ऑक्‍सीडेटिव तनाव सूजन memory loss में कमी को कम करने में हमारी मदद करता है। इन्हीं वजह से मेथी हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है।

मासिक धर्म के दर्द से बचने में मेथी पाउडर के फायदा।

महिलाओं को मासिक धर्म के समय असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है। मेथी के दाने इससे राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। मेथी पाउडर का उपयोग मासिक धर्म में 3 दिन पहले इस्तेमाल किया जाए तो इस प्रकार की समस्या से बचा जा सकता है, साथ ही मासिक धर्म से जुड़ी अन्य समस्याओं से भी राहत मिल सकती है।
मेथी में एस्‍ट्रोजेन जैसे गुणों के साथ डायोजजेनिन और इससोफ्लावोन जैसे यौगिक होते है जो मासिक धर्म से जुड़े ऐंठन जैसे लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं। यदि इसमें पीड़ित महिला नियमित रूप से मेथी का उपयोग करें तो उसे मासिक धर्म के समय होने वाली पीड़ा को दूर करने में मदद करती है।

मेथी के फायदे वजन कम करने में।

अगर आप अपने बढ़ते वजन को लेकर परेशान हैं, यदि ऐसा है तो डरे नहीं क्योंकि आपके लिए वजन कम करने की एक आयुर्वेदिक औषधि के रूप में मेथीदाने उपलब्ध है। अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो मेथी आपको मदद कर सकती है। या आपके वजन को कम करने में आपके लिए बेहद लाभकारी साबित हो सकता है।
परीक्षणों से पता चला है कि मेथी के बीच का सेवन करने वाले व्यक्तियों में वसा की मात्रा चमत्कारिक ढंग से घटने लगता है। यदि इसका सेवन नियमित रूप से किया जाए तो यह आपके वजन को घटाने में मदद करेगी।

इसे भी पढ़ें : नारियल पानी के फायदे और नुकसान जानिए क्या है सही तरीका नारियल पानी पीने का

यदि इसका सेवन आप सुबह खाली पेट भीगी हुई मेथी को खाने से आप अपने वजन को कम कर सकते हैं। मेथी के दाने शरीर में फैट को जमा नहीं होने देते है मेथी में उपस्थित घुलनशील फाइबर पेट की सूजन को कम कर सकते हैं जिससे आपकी भूख को दबाने में और वजन घटाने में फायदा होता है।

मेथी के फायदे त्वचा के लिए।

मेथी आपके त्वचा के लिए भी काफी ज्यादा लाभकारी माना जाता है। क्योंकि मेथी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीरिंकल, मॉइस्चराइजिंग और स्किन स्मूदिंग गुण पाए जाते हैं इसीलिए मेथी आपके त्वचा के लिए काफी ज्यादा लाभकारी साबित हो सकता है।

मेथी के फायदे बालों के लिए

मेथी के दाने आपके बालों के लिए भी बहुत ज्यादा अच्छा होता है। मेथी के उपयोग से आपके बालों का झड़ना रुक सकता है आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मेथी के बीच में प्रोटीन के भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो बालों के लिए बहुत जरूरी होता है। इससे गंजेपन बालों का पतला होना और बालों से बालों के झड़ने वाली समस्याओं में मदद मिल सकती है। इसके अलावा मेथी मैं लेसिथिन भी पाया जाता है जो आपके बालों को प्राकृतिक रूप से मजबूत बनाने के साथ ही मॉइस्चराइज करने का काम कर सकता है यह रूसी को भी दूर करता है। ऐसे में मेथी पाउडर के फायदे आपके बालों में नजर आने लगता है

एक अध्ययन में डाइअबीटीज़ वाले लोगों ने दोपहर और रात के खाने में 50 ग्राम मेथी के बीज का पाउडर लिया। 10 दिनों के बाद प्रतिभागियों ने बेहतर रक्त शर्करा के स्तर और कूल खराब एलडीएल कोलेस्ट्रॉल में कमी का अनुभव किया एक अन्य अध्ययन में। बिना डाइअबीटीज़ वाले लोगों ने मेथी ली उन्होंने सेवन के 4 घंटे बाद रक्त शर्करा को स्थिर में 13.4% की कमी का अनुभव किया इंसुलिन फंक्शन को बेहतर बनाने में मेथी की भूमिका के कारण यह लाभ हो सकते हैं

मेथी के पाउडर या उसके बीज का उपयोग करके अध्ययन ने देखा की यह प्रभाव इसकी उच्च फाइबर सामग्री के कारण हो सकता है। मेथी के पाउडर और आंवला के संयोजन से डायबिटीज़ की बिमारी का मदद कर सकते हैं। सूखे आंवले का पाउडर, हल्दी और मेथी के बीज को पाउडर को बराबर मात्रा में लें। और इसे मिश्रण के एक चम्मच को डाइअबीटीज़ से राहत के लिए दिन में तीन बार पानी के साथ लिया जा सकता है।

मोटापा कम करती है मेथी

मेथी हमारे मोटापा एवं पेट की सूजन जैसी बीमारियों को दूर करने के लिए लाभकारी होता है। मेथी एक प्रकार की खाद्य सामग्री है इसे कई तरह के आहार के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। मेथी के हरे पत्तों का उपयोग सब्जी के रूप में किया जाता है। और भोजन बनाते समय इसके दानों का भी उपयोग किया जाता है।

हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करें

मेथी के अलग-अलग रूप : मेथी का पौधा दो-तीन फुट लंबा होता है और इसकी फल में छोटे-छोटे पीले-भूरे रंग के सुगंधित दाने होते हैं। मेथी भूमध्य क्षेत्र, दक्षिण यूरोप और पश्चिम एशिया में इसकी खेती होती है मेथी को भारत में अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है जैसे हिंदी, गुजराती, मराठी, बंगाली और पंजाबी में इसे मेथी कहते हैं संस्कृत में इसका नाम मेथिका है। कन्नड़ में इसे मेन्तिया, तेलुगु में मेंतुलु, तमिल में वेंडयम, मलयालम में वेन्तियम, अंग्रेजी में फेनुग्रीक और लेटिन में त्रायिगोनेल्ला फोएनम ग्रीकम के नाम से जाना जाता है

डायबिटीज के लिए मेथी का उपयोग

diabetes के मरीजों को अपने खाने पीने पर देना चाहिए। ऐसे लोग अपनी डाइट में मेथी के दाने का इस्तेमाल कर सकते हैं मेथी के बीज का सेवन करने से रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित किया जा सकता है। साथ ही यह diabetes के रोगियों में इंसुलिन प्रतिरोध को भी कम करने का काम कर सकता है एक दूसरे शोध के मुताबिक, diabetes पर इसका लाभदायक असर इसमें मौजूद हाइपोग्लिसेमिक प्रभाव के कारण हो सकता है। इसे रक्त में शुगर की मात्रा को कम करने के लिए जाना जाता है, इसलिए सामान्य रक्त शुगर वालों को इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से बचना चाहिए।

डायबिटीज क्या है

रक्त में शुगर की अधिक मात्रा को ही डायबिटीज़ कहते हैं। यह समस्या तब उत्पन्न होती है। जब इंसुलिन का काम बाधित हो जाता है। इंसुलिन एक हार्मोन है जो पैंक्रियाज द्वारा बनाया जाता है।इंसुलिन ग्लूकोज को एनर्जी में बदलने में मदद करता है।और जब इसकी कार्यप्राणीली बाधित हो जाती है तब ग्लूकोज, ऊर्जा में परिवर्तित होने के बजाय रक्त में ठहर जाता है और जब लोगों का स्तर रक्त में बढ़ने लगता है तब डायबिटीज़ की समस्या उत्पन्न होती है।

स्टेप (1) समय रहते यदि शुगर कम करने के उपाय न किए गए तो डाइअबीटीज़ के कारण हृदय, किडनी, आंख, नर्व और त्वचा से जुड़ी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। इस लेख में आगे हम शुगर के लक्षण और उसके इलाज के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। diabetes तीन प्रकार के होते हैं। जिनके बारे में नीचे जानकारी दी गई है

टाइप्स 1 : डायबीटीज में इम्यून सिस्टम इंसुलिन बनने वाली कोशिकाओं को नष्ट कर देता है।और इस वजह से इंसुलिन का निर्माण नहीं हो पाता है।और इस स्थिति में मरीज को इंसुलिन के इंजेक्शन दिए जाते हैं।

टाइप्स 2 : इसमें शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम हो जाती है।फिर शरीर सही तरीके से इंसुलिन का इस्तेमाल नहीं कर पाता है।यह डाइअबीटीज़ का सबसेआम प्रकार है।जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को अपनी चपेट में ले सकता है। यह मधुमेह का वो प्रकार है, जो गर्भावस्था के दौरान होता है।

कई बार प्रगेनेंसी में टाइप 2 डायबिटीज के मामले ज्यादा दिखाई देते हैं। gestational diabetes यह diabetes का वो प्रकार है जो गर्भावस्था के दौरान होता है। कई बार प्रेग्नेंसी में टाइप्स 2 डाइअबीटीज़ के मामले ज्यादा दिखाई देते हैं। इनके अलावा भी डायबिटीज़ के और भी प्रकार है जैसे मोनोजेनिक डायबिटीज़ जिन में दोष के कारण होने वाला डाइअबीटीज़ और सिस्टिक फाइब्रोसिस डाइअबीटीज़ उन्हें होता है जिन्हें सिस्टिक फाइब्रोसिस होता है।

  • डायबिटीज़ के लक्षण?
  • प्यास लगना
  • बार बार पेशाब लगना,
  • भूख बढ़ना,
  • थकान
  • धुंधला दिखाई देना
  • पैरों या हाथों को सुन्नता या झुनझुनी
  • घाव जल्दी ना भरना
  • वजन घटना

डाइअबीटीज़ के लिए मेथी का लाभ।

शुगर के मरीजों को अक्सर अपनी डाइट पे मेथी के दाने शामिल करने के लिए कहा जाता है। मेथी में रक्त शर्करा को कम करने के गुण पाए जाते हैं। कुछ अध्ययन बताते हैं कि मेथी के बीजों का सेवन करने वाले लोगों के खून में शुगर का स्तर कम होता है मेथी के बीज को प्रतिदिन 5-50 ग्राम तक ही खाना चाहिए। मेथी के दाने रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करते हैं। और इंसुलिन की संवेदनाशील को बेहतर करते है।डाइअबीटीज़ वाले लोगों में मेथी के उपयोग से मूत्र में शर्करा की मात्रा कम हो जाती है। मेथी हमारे रक्त शर्करा को नियंत्रित और diabetes के उपचार में मेथी की भूमिका का समर्थन करते हैं।

मेथी का उपयोग कैसे करें

अब बात करते हैं मेथी का उपयोग कैसे करें।
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मेथी की तासीर गर्म होती है। आप इसका सेवन सीधे नहीं कर सकते हैं। सीधे सेवन करने से फायदे की जगह नुकसान हो सकता है । आपको मेथी को थोड़े समय के लिए पानी में भिगोकर रखना है ताकि इसकी गरमाहट कम हो जाये। उसके बाद आप इसे प्रयोग कर सकते हैं ।

मेथी का उपयोग कब और कैसे करना चाहिए

अब बात करते हैं इसे कब और कैसे उपयोग करें।
आपको मेथी के दानों को।एक या 2 मिनट के लिए मध्यम आंच पर भून लेना है।और फिर इसे सब्जी या सलाद के ऊपर डाल दे और फिर इसे दोपहर या रात के खाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।

आपको एक या दो चम्मच मेथी के दानों को रातभर पानी में भिगोकर रखना है और अगली सुबह एक गिलास पानी के साथ इसका सेवन करना है । जिस पानी में मेथी के दानों को आपने भिगोया था। आप उसका सुबह खाली पेट सेवन भी कर सकते हैं।
आपको मेथी के दानों को रातभर पानी में भिगोकर रखना है।और फिर उसे एक कपड़े में बांधकर रख दे। कुछ दिनों के लिए ऐसे ही रहने दे। उसके बाद मेथी के दाने अंकुरित हो जाएंगे। फिर इसका सेवन किया जा सकता है।

मेथी से बने व्यंजन

मेथी के परांठे और रोटियां बनाकर इसका सेवन किया जा सकता है। और फिर मेथी के पराठे को सुबह के नाश्ते में लिया जा सकता है।
मेथी दाने की हर्बल चाय भी पी जा सकती है। पानी में मेथी के दाने डालकर उसे उबाल लें। और फिर अपने स्वाद अनुसार नींबू और शहद मिला सकते हैं। इसे सुबह और शाम पिया जा सकता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here