Epfo New Rules 2022 अप्रैल से लागू होने जा रहा है यह नियम कर्मचारियों पर पड़ेगा असर

Epfo New Rules 2022 – Employees Provident Fund Organisation के द्वारा 1 अप्रैल 2022 से नया नियम लागू होने जा रहा है जिसमें कर्मचारियों को भी देना पड़ सकता है टैक्स

पीएफ के पैसों को लेकर बहुत सारी उम्मीदें जुड़ी होती हैं बहुत सारे लोगों ने बहुत सारे बड़े-बड़े सपने देखे होते हैं लेकिन अब एम्पलाइज प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन कर्मचारियों के लिए एक ऐसा नियम निकालने जा रहा है जिसकी वजह से सभी कर्मचारियों के समस्या उत्पन्न हो सकती है क्योंकि 1 अप्रैल के बाद ईपीएफ के ऊपर भी टेक्स लगने जा रहा है और इसका हम कर्मचारियों के ऊपर क्या असर पड़ेगा चलिए इसे विस्तार से समझते हैं

Epfo New Rules 2022: 1 अप्रैल 2022 से देना पड़ेगा टैक्स

एम्पलाइज प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन के द्वारा मिलने वाले फंड पर tax के लिए पहले ही बड़ा ऐलान किया गया था लेकिन इसे साफ शब्दों में नहीं बताया गया था की यह टेक्स किस तरह से लगेगा

epfo-1-April-2022.webp

Epfoकर्मचारी भविष्य निधि संगठन एक प्रकार की निवेशक योजना है और यह उन कर्मचारियों के लिए बनाया गया है जो लोग रोजाना काम करते हैं और अगर किसी कंपनी में कार्य करते हैं तो उनको पीएफ जमा करना ही होता है लेकिन क्यों यह संगठन इसलिए बनाया गया है कि जब भी कोई कर्मचारी अपने कार्यकाल से रिटायर हो जाता है तो रिटायर होने के बाद आपने सभी जरूरतों को अपने पीएफ में जमा किए गए फंड के द्वारा पूरा कर सकें

Epfo (Employees Provident Fund Organisation) यह भारत सरकार के द्वारा बनाई गई एक ऐसी योजना है जिसकी पूरी देखरेख EPFO कि कंट्रोल में होता है इस योजना के अंतर्गत कोई भी सरकारी या प्राइवेट ऐसी कंपनियां भी शामिल होती हैं जिनमें 20 से अधिक कर्मचारी कार्य करते हैं अर्थात अगर आप किसी ऐसी कंपनी में काम करते हैं जहां पर 20 से ज्यादा कर्मचारी कार्य करते हैं तो वहां पर आपका पीएफ जमा होना चाहिए

Epfo (Employees Provident Fund Organisation) के फायदे

जब भी आप किसी company मैं जॉब करने जाते हैं तो आपको इस बारे में विशेष रुप से समझ लेना चाहिए कि वह कंपनी पीएफ जमा करती है या नहीं करती है क्योंकि ईपीएफओ के फायदे बहुत सारे हैं

बचत करने का एक बेहतरीन जरिया है ईपीएफओ, EPF योजना 1952 के अंतर्गत सभी कर्मचारियों को सरकार द्वारा घोषित की गई महामारी या आपदा आने पर अग्रिम अनुदान प्रदान करती है साथ ही साथ अगर आपको ऐसी कोई समस्या आ जाती है जहां पर पैसे की अधिक आवश्यकता होती है तो ऐसे में आप ईपीएफओ की राशि निकालकर अपना काम पूरा कर सकते हैं

हालांकि पीएफ निकालने के लिए बहुत सारे नियम भी बनाए गए हैं और समय के साथ साथ ही नियमों में काफी सारे बदलाव भी किए गए हैं ईपीएफ को निकालने के लिए आप दो माध्यम से आवेदन कर सकते हैं पहला तो आप ऑनलाइन कर सकते हैं दूसरा ऑफलाइन भी कर सकते हैं

Employees Provident Fund को किसी भी सरकारी या गैर सरकारी संस्था के द्वारा बहुत ज्यादा अहमियत दी जाती है नौकरी पेशा लोगों के लिए यह एक प्रकार की बचत योजना है और इस योजना के अंतर्गत नियोक्ता और कर्मचारी दोनों के द्वारा कर्मचारी के ईपीएफओ अकाउंट में मूल वेतन का 10% योगदान किया जाता है जिसमें कर्मचारी अगर रिटायर हो जाता है या फिर अपनी नौकरी से इस्तीफा दे देता है तो ऐसे में वह इस अकाउंट से निवेश किए गए राशि का एक हिस्सा निकाल सकता है इस योजना के अंतर्गत कर्मचारियों को 8.5% का ब्याज भी प्रति वर्ष की दर से मिलता है

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के अंतर्गत ईपीएफओ अकाउंट में जमा की गई पूरी राशि को अपने कार्यकाल से रिटायर होने के बाद निकाला जा सकता है

1 अप्रैल 2022 से लगेगा ईपीएफओ अकाउंट पर टैक्स

अगर आप एक कर्मचारी हैं तो आप ईपीएफओ अकाउंट में जरूर निवेश करते होंगे और अगर आप ऐसा करते हैं तो यह खबर आपके लिए बहुत ही जरूरी है क्योंकि 1 अप्रैल 2022 से आपकी ईपीएफओ अकाउंट पर भी टैक्स लगेगा क्योंकि अभी तक आपके अकाउंट में आपके वेतन का कुछ हिस्सा जमा होता था लेकिन नए नियम के अनुसार 1 अप्रैल 2022 से आपके पीपीएफ अकाउंट के ऊपर भी epfo tax लगेगा क्योंकि ईपीएफओ का नया नियम 1 अप्रैल 2022 से लागू होने जा रहा है

Epfo new rules 2022

  • ईपीएफओ के नए नियम के अनुसार 1 अप्रैल 2022 से ई पीएफ अकाउंट को दो भागों में बांट दिया जाएगा
  • अगर आपके ईपीएफओ अकाउंट में जमा होने वाली राशि प्रतिवर्ष ढाई लाख रुपए से ज्यादा है तो उस पर मिलने वाला ब्याज टैक्स के दायरे में आएगा
  • केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड CBDT ने यह सूचना जारी किया है
  • इस सूचना के अंतर्गत पीपीएफ अकाउंट के अंदर एक अलग अकाउंट खोला जाएगा

Epfo New Rules 2022 – बोर्ड ने सूचना देते हुए यह बताया कि ईपीएफओ के नए नियम 1 अप्रैल 2022 से लागू कर दिए जाएंगे, बजट में वित्त मंत्री सीतारमण ने बताया कि जिन लोगों के EPF और vpf अकाउंट में सालाना योगदान ढाई लाख रुपए से ज्यादा है तो उन लोगों को इस पर मिलने वाला ब्याज टैक्स के दायरे में आएगा

Cbdt (सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स) के द्वारा जारी किए गए Epfo New Rules 2022 सूचना के अनुसार ईपीएफ में 31 मार्च 2021 तक उपभोक्ता के द्वारा किए गए अनुदान टैक्स फ्री होगा वित्तीय वर्ष 2020 और 2021 के बाद ईपीएफओ अकाउंट पर ब्याज का हिसाब अलग अलग किया जाएगा

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के द्वारा जारी किए गए सूचना के अनुसार वित्तीय वर्ष 2021 और 2022 में अगर इपीएफ अकाउंट में ढाई लाख रुपए से ज्यादा 1 साल में अनुदान किया जाता है तो उस पर मिलने वाले ब्याज पर आपको टैक्स देना होगा सिर्फ इतना ही नहीं इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय भी आपको इसकी जानकारी देनी होगी

इसे भी पढ़ें : ईपीएफओ ई नॉमिनेशन क्यों है जरूरी और क्या है फायदे

ईपीएफओ के नए नियम को इनकम टैक्स 25 वां संशोधन रूल 2021 कहा जाएगा इस रूल का ज्यादातर प्रभाव उन लोगों के ऊपर ज्यादा पड़ेगा जिनकी इनकम ज्यादा है और उनके पीपीएफ अकाउंट में ज्यादा अनुदान दिया जाता है

निष्कर्षEpfo New Rules 2022 ईपीएफओ के इस नए नियम को लेकर सरकार का मानना है की केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के द्वारा जारी किए गए इस नए नियम का प्रभाव 1 फ़ीसदी से भी कम लोगों के ऊपर पड़ेगा आपकी इस बारे में क्या राय है हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं धन्यवाद

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here