FD New Rule 2022: यदि आपने भी किया है किसी बैंक में FD तो RBI का यह नया अपडेट जरूर पढ़ें

0
296
rbi-fd-rules.webp
Rate this post

FD को लेकर RBI की तरफ से नया अपडेट जारी किया गया है इसीलिए यदि आपने भी किसी बैंक में एफडी करवाया है तो आपको यह नया नियम जरूर जानना चाहिए

FD New Rule: आरबीआई की तरफ से एफडी को लेकर कई सारे नए नियम लागू किए गए हैं जिसकी वजह से फिक्स डिपाजिट FD के ऊपर काफी ज्यादा प्रभाव पड़ा है इसीलिए यदि आपने किसी भी बैंक के द्वारा एफडी करवा रखा है या फिर आप भी अपनी करवाने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको इस नए नियम को अच्छी तरह से जान लेना चाहिए नहीं तो आपको इसका भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है

rbi-fd-rules.webp

fd New rules 2022

बता दें कि हाल ही में आरबीआई की तरफ से यह नया नियम लागू किया गया है और यह नए नियम मौजूदा समय में प्रभावी हो चुके हैं इसलिए सभी फिक्स डिपाजिट धारकों को इसका प्रभाव देखने को मिलेगा, साथ ही साथ सरकार ने सभी सरकारी और गैर सरकारी बैंकों में फिक्स डिपॉजिट पर ब्याज दरों को बढ़ा दिया है इसीलिए अब ग्राहकों को फिक्स डिपॉजिट करने से पहले नए नियम को अच्छी तरह से समझना होगा नहीं तो इसका नुकसान भी हो सकता है आपको एक बात का विशेष ध्यान और देना चाहिए की अलग-अलग बैंकों में फिक्स डिपॉजिट पर अलग-अलग ब्याज दर लागू किए जाते हैं

Follow us: Google News

फिक्स डिपाजिट के नए नियम

आरबीआई की तरफ से लागू किए गए नए नियम के अनुसार यदि किसी व्यक्ति ने फिक्स डिपाजिट करवा रखा है और उसकी मैच्योरिटी एज पूरी हो जाती है इसके बाद भी यदि इस पर दावा नहीं किया जाता है या बैंक की तरफ से इसका भुगतान नहीं किया जाता है तो ऐसे में fixed deposit की राशि पर मिलने वाला ब्याज सेविंग अकाउंट पर निर्धारित की गई रेट ऑफ इंटरेस्ट से भी ज्यादा कम हो तभी दी जाएगी, आरबीआई की तरफ से जारी किया गया यह नियम सभी प्रकार के ग्रामीण बैंकों, क्षेत्रीय बैंको, स्मॉल फाइनेंस बैंक के ऊपर भी लागू किया गया है

उदाहरण के लिए– यदि कोई व्यक्ति 5 साल या 10 साल के लिए फिक्स डिपाजिट जमा करता है तो यह जमा किया गया FD मैच्योरिटी वाला फिक्स डिपाजिट होता है और जब इसकी मैच्योरिटी एज यानी कि 5 साल या 10 साल पूरे हो जाते हैं इसके बावजूद यदि वह व्यक्ति अपनी मैच्योरिटी राशि को नहीं निकालता है तो यहां पर दो प्रकार के नियम लागू होते हैं जिसके अनुसार यदि फिक्स डिपॉजिट पर मिलने वाला ब्याज उसके सेविंग के अकाउंट के ऊपर निर्धारित किए गए ब्याज से कम होता है तो ऐसे में फिक्स डिपॉजिट की राशि पर मिलने वाला ब्याज मिलता रहेगा

इसके दूसरे नियम के अनुसार यदि ग्राहक के सेविंग अकाउंट पर मिलने वाला रेट ऑफ इंटरेस्ट का ब्याज दर एफडी पर मिलने वाले ब्याज दर से अधिक है तो ऐसे में ग्राहकों को थोड़ी असुविधा का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि इसके अनुसार फिक्स डिपाजिट के मैच्योरिटी पर मिलने वाले ब्याज के बाद ही सेविंग अकाउंट वाला ब्याज मिल पाएगा

FD पर मिलने वाली ब्याज की दरें अलग-अलग होती हैं जिनमें कुछ ऐसी दरें भी शामिल होती हैं जो सीनियर सिटीजन के लिए अलग रेट पर उपलब्ध होती हैं और यही 60 साल से कम उम्र के लोगों के फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दर थोड़ी कम मात्रा में मिलती है

इसे भी पढ़ें: जिस BANK ACCOUNT का नहीं करते हैं उपयोग जल्दी करवाएं बंद वरना होंगे यह भारी नुकसान

जब भी आप किसी बैंक में FD करवाने के लिए जाते हैं तो आपको सबसे पहले यह जानकारी जरूर एकत्रित कर लेनी चाहिए कि आप जिस फिक्स डिपाजिट को बैंक में जमा करने वाले हैं उस पर मिलने वाला ब्याज कितने प्रतिशत होगा तभी आपको बैंक में फिक्स डिपॉजिट करना चाहिए

यदि आपने पहले से कोई फिक्स डिपाजिट जमा कर रखा है जिस की मैच्योरिटी पूरी हो चुकी है तो आपको सबसे पहले अपने बैंक में जाकर यह पता करना चाहिए कि उस पर मिलने वाली ब्याज दरें कितनी है और यदि आपको ऐसा पता चलता है कि नए नियम का प्रभाव आपके FD पर पड़ रहा है तो जल्द से जल्द आपको इसे निकालने के बारे में भी सोचना चाहिए

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें