Fish farming business (machli palan) मछली पालन का व्यवसाय

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे कि हम, यानी कि machli palan का व्यवसाय कैसे चालू कर सकते हैं | मछली पालन व्यवसाय को शुरू करने के लिए किन-किन चीजों की आवश्यकता पड़ती है | हम मछली पालन का व्यवसाय कहां पर चालू कर सकते हैं, और इसमें क्या लागत आएगी, और क्या सावधानियां बरतनी चाहिए | और किस तरह से फायदा ले सकते हैं | तो चलिए जानते हैं, Fish farming business मछली पालन व्यवसाय के बारे में |

(Machli plan) Fish farming business plan in india

हालांकि मछली पालन का व्यवसाय भारत में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी बहुत तेजी से हो रहा है | मछली स्वादिष्ट होने के साथ ही इसमें मौजूद vitamins aur protein की प्रचुर मात्रा होने के कारण भारत का एक बड़ा हिस्सा, दैनिक आहार के रूप में भी मछलियों का सेवन करता है | जिसके कारण बाजार में मछलियों की मांग निरंतर बढ़ती जा रही है |

साथ ही भारत मछली के निर्यातक देशों में विश्व के चौथा सबसे बड़े मछली निर्यातक देश के नाम से भी जाना जाता है | ऐसे में मछली पालन का व्यवसाय एक मुनाफे का व्यवसाय है | इसीलिए हम आपके लिए लेकर आए हैं, मछली पालन व्यवसाय के बारे में पूरी जानकारी | जिससे आप मछली पालन का व्यवसाय शुरू करके काफी मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं, और एक सफल व्यवसाई के रूप में भी अपने आप को स्थापित कर सकते हैं |

मछली पालन की सही जानकारी

मछली के व्यवसाय को शुरू करने के लिए जिस रॉ मैटेरियल की जरूरत होगी वह है, अंगुलीकाय या fingerling fish, fish feed और दवाइयां |

मछली पालन के लिए तालाब का निर्माण

हालांकि अगर आप मत्स्य पालन का व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं, तो machli palan में सबसे पहले सही स्थान का चुनाव करना बहुत ही जरूरी होता है | Machli Palan के लिए ऐसी जगह का चुनाव करें, जिसमें जल को धारण करने की क्षमता अधिक से अधिक हो |

एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि आप इस जिस जगह पर मछली का व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं, उस जमीन की मिट्टी का पी एच छारीय या अम्लीय ना हो | अगर machli palan में पी एच की बात करें, तो सात से आठ पी एच की जमीन मछली पालन के लिए अधिक फायदेमंद साबित होती है | तालाब का निर्माण किसी ऐसी जगह पर करें, जहां पर पूरे साल में 8 से 9 महीने तक पानी स्थाई रूप से जमा रह सके | हालांकि इस बात का ध्यान अवश्य रखें, कि तालाब किसी ऐसी जगह पर हो जहां पर बाढ़ का प्रभाव ना पड़ सके |

हालांकि अगर आपके पास पहले से ही कोई तालाब है, और आप उसमें machli palan करना चाहते हैं, तो मछली पालन करने से पहले उस तालाब से बिना मतलब की खरपतवार, और अगर तालाब में पानी है और उसके अंदर कुछ मछलियां पहले से हैं, जो प्राकृतिक रूप से निवास करते हैं | तो ऐसी मछलियों को, और खरपतवार को, बाहर निकालने के बाद ही उस तालाब में मछली पालन का व्यवसाय शुरू करें |

मछली पालन के लिए तालाब की गहराई कितनी होनी चाहिए

• machli palan के लिए तालाब को कम से कम 50 डिसमिल यानी कि आधे एकड़ का बनवाना चाहिए |
• मछली पालन के लिए तालाब को बनवाते समय तालाब को आयताकार बनवाना चाहिए तलाक की लंबाई तालाब की चौड़ाई से 3 गुना अधिक होनी चाहिए
|

मछली पालन के दिए अगर संभव हो तो तालाब ऐसी जगह पर बनवाएं जहां पर दोमट मिट्टी हो |
• हालांकि अगर तालाब की गहराई की बात करें तो तालाब की गहराई कम से कम 8 या 10 फीट होनी चाहिए जिसमें कम से कम 6 फुट पानी भरा होना चाहिए |
तालाब की गहराई करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें कि, तालाब के अंदर इतना पानी हो जो कि सूर्य की किरणों को तालाब की तलहटी तक पहुंचने से रोक सके |

मछली पालन कैसे तैयार करें

हालांकि machli palan करने को लेकर बहुत सारे सवाल होते हैं, बहुत लोगों के पास ज्यादा जमीन नहीं होती है | जिसकी वजह से वह मछली का पालन करना तो चाहते है, लेकिन इस दुविधा में पड़े रहते हैं कि मछली पालन कहां आरंभ करें | दोस्तों मछली पालन करने के लिए बहुत सारे ऐसे उपाय हैं, जहां आप मछली पालन कर सकते हैं, जैसे कि-
आप सीमेंट के टैंक में मछली पालन कर सकते हैं |
• प्लास्टिक के टैंक में मछली पालन कर सकते हैं |
• घर में मछली पालन कर सकते हैं |
• तालाब में मछली पालन कर सकते हैं
|

मछली क्या क्या खाती है

हालांकि अगर आप machli palan का व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं, तो आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा कि मछलियों को क्या खिलाएं, या मछलियां क्या क्या खाती हैं | दोस्तों सबसे पहले यह जान लेते हैं, की तालाब की मछलियां क्या खाती हैं | ताला की मछलियों को fish feed खिलाया जाता है, यह चारा बाजार में बहुत ही आसानी से सस्ते दाम में मिल जाता है | और तालाब की मछलियां ज्यादातर fish feed ही खाती है

हालांकि अगर आप machli palan का व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं, तो तालाब में गोबर की खाद का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए, क्योंकि गोबर की खाद तालाब में मछलियों के भोजन की उपलब्धता को बढ़ाता है | हालांकि तालाब में गोबर की खाद का इस्तेमाल करने की विधि यह है, कि तालाब में मत्स्य बीज संचय करने से 10 से 15 दिन पहले 10 से 20 कुंटल प्रति हेक्टेयर वर्ष के दर से गोबर की खाद इस्तेमाल करना चाहिए मछली का चारा आप online भी मंगवा सकते हैं

मछली के चारा को हम Fish feed कहते हैं, हालांकि अगर मछलियों को की अच्छी ग्रोथ चाहते हैं, तो मछलियों के चारा रूप के रूप में ज्यादातर इस्तेमाल होने वाले fish food जैसे meat boan, soyabean meal, mustard oil, rice bran हैं |

मछली कितने दिन में तैयार होती है

हालांकि machli palan में कई प्रकार की प्रजातियां पाली जाती है, इसलिए सब की ग्रोथ अलग-अलग प्रकार की होती है |लेकिन कुछ विशेष मछलियां जैसे- I M C रोहू मछली कतला मछली मृगल मछली और कार्प में ग्रास कार्प, सिल्वर कार्प, कामन कार्प के साथ big head fish के बारे में जानेंगे |

• fingerling fish रोहू मछली 14 महीने में तैयार होती है |
• रोहू मछली की स्टंटेड सीट 10 महीने में तैयार होती है |


• कतला मछली का fingerling fish 10 महीने में तैयार होती है |
• कतला मछली का स्टंटेड सीट 8 महीने में तैयार होती है |


• मृगल मछली fingerling fish 14 से 15 महीने में तैयार होती है |
• मृगल मछली स्टंटेड सीट 10 महीने से 12 महीने में तैयार होती है |


• ग्रास कार्प fingerling fish मछली 1 साल में डेढ़ से 2 किलो तैयार होती है |
• ग्रास कार्प स्टंटेड सीट 1 साल में 2:00 से 2:30 किलो तैयार होती है |


• कॉमन कार्प fingerling fish 1 साल में तैयार होती है |
• कॉमन कार्प स्टंटेड सीट मछली 8 से 10 महीने में तैयार होती है |


• सिल्वर कार्प fingerling fish 7 से 8 महीने में तैयार होती है |
• सिल्वर कार्प स्टंटेड सीट 5 से 6 महीने में तैयार होती है
|


• big head fingerling fish 6 महीने में तैयार होती है |
• बिग हेड stunted 4 से 5 महीने में तैयार होती है
|

fish farming traning (machli palan training centre)

हालांकि machli palan के लिए कई सारे ट्रेनिंग सेंटर भी खोले गए हैं, अगर आप मछली पालन के बारे में विशेष जानकारी चाहते हैं, तो आप मछली पालन के लिए ट्रेनिंग भी ले सकते हैं | मछली पालन ट्रेनिंग के लिए आपको कुछ फीस भी देनी पड़ती है, जिसके लिए न्यूनतम 3000 से 8000 तक फीस रखी गई है | हालांकि यह ट्रेनिंग फीस machli palan की ट्रेनिंग के प्रोग्राम पर भी निर्भर करता है, कि आप किस तरह का प्रोग्राम ज्वाइन करते हैं, machli palan का हेड क्वार्टर भुवनेश्वर में है |

मछली पालन ट्रेनिंग कौन ले सकता है

हालांकि मछली पालन ट्रेनिंग में सिर्फ 30 लोगों को एक साथ ट्रेनिंग दी जाती है, और मछली पालन ट्रेनिंग के लिए विशेष प्रगतिशील व्यवसाई ही मछली पालन की ट्रेनिंग ले सकता है | या फिर मछली पालन से संबंधित कोई विशेष अधिकारी यह जो भी ऐसा व्यक्ति, जो कि मछली पालन करना चाहता है वह मछली पालन ट्रेनिंग ले सकता है |

fish farming loan | मछली पालन लोन योजना

हालांकि अगर आपके पास machli palan करने के लिए पूंजी नहीं है, और आप मछली पालन व्यवसाय की शुरुआत करना चाहते हैं | तो इसके लिए सरकार के द्वारा लोन की भी व्यवस्था है, जिसे आप मछली पालन के व्यवसाय के लिए ले सकते हैं |

मत्स्य पालन के लिए लोन कैसे लें

हालांकि अगर आप मत्स्य पालन के लिए लोन लेना चाहते हैं, तो स्टेट बैंक आफ इंडिया के द्वारा आप आसानी से मत्स्य पालन के लिए लोन ले सकते हैं | अगर इसके डॉक्यूमेंट के बारे में बात करें, तो इसके लिए आपको मामूली कागजात जैसे- आधार कार्ड, पैन कार्ड साथ ही साथ आपको कुछ सिक्योरिटी की भी जरूरत पड़ सकती है | जिन्हें आप बैंक के द्वारा वेरीफाई कर सकते हैं | हालांकि अगर मछली पालन के लिए लोन की आवश्यकता है, तो यह आपके प्रोजेक्ट के ऊपर निर्भर करता है, कि आप कितना बड़ा प्रोजेक्ट शुरू करने वाले हैं |

fish farming (मछली पालन) के लिए लोन कौन ले सकता है

machli palan के लिए लोन उन लोगों को मिलने की संभावना अधिक होती है, जिनका मछली पालन का कोई फैमिली बैकग्राउंड हो | या फिर उन लोगों को मिल सकता है, जो लोग मछली पालन के व्यवसाय में पहले से शामिल है | या फिर उन लोगों को मिल सकता है, जिन लोगों ने मछली पालन व्यवसाय के बारे में कोई विशेष जानकारी प्राप्त की है |

मछली पालन के लिए सरकार की क्या योजना है?

हालांकि सरकार के द्वारा मत्स्य पालन अनुदान योजना भी बनाई गई है, अगर आप मत्स्य पालन अनुदान योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, तो इसके लिए ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर से पूछ सकते हैं, या फिर अपने वीडियो ऑफिस में मत्स्य विभाग के द्वारा भी इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, और सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं |

हालांकि मत्स्य पालन अनुदान के बारे में, हर राज्य में अलग-अलग प्रकार की अनुदान योजना है | कहीं-कहीं पर 50 परसेंट से लेकर 90 पर्सेंट तक की भी योजनाएं हैं | यह आपके राज्य के ऊपर निर्भर करता है, कि आप कौन से राज्य में रहते हैं |

(fish farming) मत्स्य पालन के फायदे

machli-palan.jpg

हालांकि machli palan की बहुत सारे फायदे हैं, जैसे कि- आप मछली पालन का व्यवसाय कई प्रकार से शुरू कर सकते हैं | आप इसे अपने घर में भी शुरू कर सकते हैं | दूसरा फायदा यह है कि, इसमें लागत कम और मुनाफा ज्यादा होता है | तीसरा फायदा यह है कि, आप सरकार के द्वारा सब्सिडी का भी लाभ उठा सकते हैं | चौथा फायदा यह है कि, अगर इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपके पास पूंजी नहीं है, तो आप बैंक के द्वारा लोन भी प्राप्त कर सकते हैं |

निष्कर्ष

आज के इस पोस्ट में हमने समझा कि, मछली पालन का व्यवसाय किस तरह से शुरू कर सकते हैं | और मछली पालन के व्यवसाय को शुरू करने के लिए किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है | उम्मीद है, यह सारी जानकारी आपको समझ में आ गई होगी | अगर पोस्ट अच्छी लगी तो, इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें | धन्यवाद |

इसे भी पढ़ें :- कपूर बनाने का व्यवसाय कैसे चालू करें

Sharing Is Caring:

Leave a Comment