WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

आज मनाया जा रहा है होलिका दहन जानिए शुभ मुहूर्त पूजन विधि

होलिका दहन एक हिंदू त्योहार है जो हर साल होली के दिन से पहले की रात को मनाया जाता है। यह बुराई पर अच्छाई की जीत और वसंत ऋतु के आगमन का प्रतीक है। यह त्योहार पूरे भारत और दुनिया भर में बड़े उत्साह और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

2023 में होलिका दहन 7 मार्च को मनाया जाएगा। 2023 में होलिका दहन का उप मुहूर्त शाम 6:24 बजे से रात 8:51 बजे तक है। यह शुभ समय होलिका दहन अनुष्ठान करने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है।

होलिका दहन एक अनुष्ठान है जिसमें भगवान विष्णु द्वारा मारे गए राक्षस राजा हिरण्यकशिपु की बहन होलिका को जलाना शामिल है। कहानी यह है कि हिरण्यकशिपु को भगवान ब्रह्मा से वरदान मिला था, जिसने उसे वस्तुतः अविनाशी बना दिया था। वह अभिमानी और अत्याचारी बन गया, और उसका अपना पुत्र, प्रह्लाद, अपने पिता के चिढ़ के लिए, भगवान विष्णु का भक्त बन गया।

हिरण्यकशिपु ने कई बार प्रहलाद को मारने की कोशिश की, लेकिन हर बार उसे भगवान विष्णु ने बचा लिया। अंत में, हिरण्यकशिपु की बहन, होलिका, जिसके पास एक वरदान था जिसने उसे आग से प्रतिरक्षित किया, ने प्रह्लाद को आग में ले जाकर मारने की कोशिश की। लेकिन आग ने होलिका को भस्म कर दिया, और प्रह्लाद बच गया।

होलिका दहन की रस्म बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, और होलिका दहन को बुरी शक्तियों की सफाई के रूप में देखा जाता है। अलाव जलाकर अनुष्ठान किया जाता है, और लोग पूजा करने और पूजा करने के लिए इसके चारों ओर इकट्ठा होते हैं।

Holika Dahan Shubh muhurt 2023 | होलिका दहन शुभ मुहूर्त 2023

शुभ मुहूर्त – शाम 6:24 से रात 8:51 तक

समय – 2 घंटे 27 मिनट 

होलिका दहन के लिए उप मुहूर्त शाम के समय आता है, जो अनुष्ठान करने के लिए सबसे शुभ समय माना जाता है। लोग आमतौर पर त्योहार से कुछ दिन पहले अलाव के लिए लकड़ी और अन्य सामग्री इकट्ठा करना शुरू कर देते हैं। गाय के गोबर, घी और कपूर के मिश्रण का उपयोग करके अलाव जलाया जाता है, जिसके बारे में माना जाता है कि इसमें शुद्धिकरण गुण होते हैं।

जैसे ही अलाव जलता है, लोग प्रार्थना करते हैं और भगवान विष्णु और अन्य देवताओं के भजन गाते हैं। कुछ लोग आरती भी करते हैं, देवता के सामने एक जला हुआ दीपक लहराने की एक रस्म। पूजा के बाद, लोग आमतौर पर अलाव से कुछ अंगारे लेते हैं और उन्हें घर ले जाते हैं, जो सौभाग्य और समृद्धि लाने वाला माना जाता है।

होलिका दहन पूरे भारत में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है, और अनुष्ठान और रीति-रिवाज एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भिन्न हो सकते हैं। कहीं पर लोग अलाव को फूलों और रंग-बिरंगे कपड़ों से सजाते हैं तो कहीं होलिका और अन्य राक्षसों के पुतले बनाकर अलाव के साथ जलाते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Share on:
Janhvi Shankar

हमारी वेबसाइट पर सभी Latest news पूरी जांच पड़ताल और सत्यता के आधार पर प्रकाशित की जाती है। हमारा लक्ष्य आप लोगों को sarkari Yojana, business idea, Entertainment, news और हेल्थ के बारे में सही जानकारी प्रदान करना है हमारी टीम हमेशा सत्य और सही जानकारी आप तक पहुंचाने के लिए समर्पित हैं।

Leave a Comment