ब्लॉग को गूगल पर कैसे चालू करें

को गूगल पर कैसे चालू करें

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका, हमारे blog tiwariproduction digital india में |
आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की | हम किस तरह से ब्लॉगिंग कर सकते हैं |
ब्लॉगिंग करने की कौन कौन से प्लेटफार्म है | और कौन सा प्लेटफार्म आपके लिए सबसे बेहतर है |
और ब्लॉग किस तरह से लिखना चाहिए | ब्लॉग लिखने के क्या-क्या फायदे हैं |
तो चलिए हम जानते हैं कि |

ब्लॉग किसे कहते हैं |ब्लॉग को गूगल पर कैसे चालू करें

एक सफल बनने के लिए आपको हमेशा उसके शुरुआत से जानना जरूरी होता है |
दोस्तों हम जब भी गूगल पर सर्च करते हैं | तो सर्च करने के बाद
जो भी पोस्ट में दिखाई देती है वह पोस्ट ब्लॉग के अंदर आती है | ब्लॉग कई प्रकार के हो सकते हैं |
कई टॉपिक पर हो सकते हैं | और कई तरह की कैटेगरी में हो सकते हैं | जो भी चीजें आप गूगल पर सर्च करते हैं |
वह सारी चीजें हमारे और आपके जैसे लोग ही गूगल पर डालते हैं  | जैसे कि जब कोई सर्च करता है |
तो वह सारी पोस्ट आपके सामने आ जाती है | और आपको जिस चीज की जरूरत होती है |
आप जिस चीज को खोज रहे होते हैं, वह चीजें आपको मिल जाती हैं |

उदाहरण के लिए आप इस तरह से समझ सकते हैं | कि जिस तरह आप एक किताब से
कोई भी चीज पढ़ते हैं | तो आपको किताबें अपने साथ रखनी पड़ती है | और
अपनी जरूरत के अनुसार उन किताबों को खोज कर वहां से आपको जानकारी प्राप्त करनी होती है |
लेकिन यहां पर सारी चीजें ऑनलाइन होती है | अगर आप बुक की बात करें,
बुक के किसी पैराग्राफ की बात करें | तो वह पैराग्राफ आपको
इंटरनेट पर अगर उपलब्ध मिलता है | तो वह आर्टिकल ही ब्लॉग कहलाता है |

ब्लॉग लिखना कैसे आरंभ करें

दोस्तों अगर आप ब्लॉग लिखना चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले यह समझना जरूरी है |
की ब्लाक में कौन-कौन सी चीजें जरूरी होती है, और ब्लॉग कैसे लिखा जाता है |
अपना एक ब्लॉगिंग का वेबसाइट चालू करने के लिए आपको सबसे पहले,
शुरुआत से समझना होगा | कि आप जो ब्लॉग का वेबसाइट बनाना चाहते हैं
उस वेबसाइट में आप किस टाइप के ब्लॉग लिखने वाले हैं | सबसे पहले
आपको टाइप सेलेक्ट करना चाहिए एक अच्छा टाइप का ब्लॉग सोच लेते हैं |

तो इसके बाद आपको कैटेगरी सोचना चाहिए | आपको यह अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए
कि आपका ब्लॉग किस कैटेगरी में आता है | आपका ब्लॉग एजुकेशनल कैटेगरी में आता है
या फिर टेक की कैटेगरी में आता है या फिर भक्ति की कैटेगरी में आता है |
अगर आप इन सारी चीजों को अच्छी तरह से समझ कर | और उसके बाद आप
अपनी एक वेबसाइट तैयार करते हैं | जिस पर आप ब्लॉग लिखने वाले हैं |
तो आपने सफलतापूर्वक अपने वेबसाइट को सही तरीके से
चलाने के लिए | एक बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी हासिल कर ली है |

ब्लॉग कहां लिख सकते हैं

दोस्तों ब्लॉग लिखने के लिए बहुत लोगों को कन्फ्यूजन रहता है |
कि हम अपने ब्लॉग का स्टार्टिंग कहां से करें | यानी कि हम अपने ब्लॉग को कहां से लिखना चालू करें |
और अपनी वेबसाइट को कहां पर बनाएं | कौन से प्लेटफार्म पर बनाएं कौन सा प्लेटफार्म हमारे लिए सही है |
और कौन सा प्लेटफार्म नहीं सही है | दोस्तों वैसे तो आपको ब्लॉग लिखने के लिए बहुत सारे
ऐसे ही फ्री वेबसाइट मिल जाएंगी | जहां पर आप काफी आसानी से बिल्कुल फ्री में अकाउंट
बनाकर | ब्लॉग लिखना आरंभ कर सकते हैं, अगर आप ब्लॉगिंग के बारे में नहीं जानते हैं |
तो आपको एक फ्री ब्लॉग की वेबसाइट बनाकर शुरुआत करनी चाहिए |
अगर आप बहुत सारे उलझनों में नहीं पड़ना चाहते हैं |

अगर आप यह सोचते हैं | कि आपके सिर्फ पर्सनल जानकारी डालने पर ही
आपकी वेबसाइट बनकर तैयार हो जाए | और आप आसानी से एक अच्छा खासा
ब्लॉग लिख सकें | तो इसके लिए आप गूगल ब्लॉगर की साइट पर जाकर | वहां से
अपना एक ब्लॉगिंग का वेबसाइट बना सकते हैं | जो कि बिल्कुल फ्री होता है |
और आपके यहां पर एक भी चार्ज नहीं लगते हैं | इसलिए यह एक बहुत ही आसान रास्ता है
जहां से आप आसानी से ब्लॉगिंग स्टार्ट कर सकते हैं | ब्लॉग लिखने का दूसरा रास्ता है
वर्डप्रेस के द्वारा | आप वर्डप्रेस के द्वारा भी अपनी एक साइड बनाकर | वहां पर
काफी आसानी से अपना ब्लॉग लिखना आरंभ कर सकते हैं | लेकिन यहां पर आपको
फीस भी देना पड़ता हैं | जिसकी कीमत लगभग 4000 से
₹5000 हो सकती है | या फिर इससे ज्यादा भी हो सकती है |

फ्री वेबसाइट निवेश वेबसाइट में अंतर/ब्लॉग को गूगल पर कैसे चालू करें

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि ब्लॉगर एक फ्री वेबसाइट है | तो इसके कुछ अपने फायदे और नुकसान भी होते हैं | क्योंकि जब आप यहां पर वेबसाइट बनाते हैं तो यहां पर आपको अपना डोमेन बनाना होता है | जिसमें आप अपना डोमन बनाते हैं | तो वहां पर आपको डॉट कॉम के साथ-साथ, ब्लॉग स्पॉट भी मिलता है | जो कि आपके डोमेन के लिए एक माइनस पॉइंट हो सकता है |

जैसे कि अगर आप कोई वेबसाइट बनाना चाहते हैं, example.com | तो यहां पर आपको मिलेगा example. Blogspot.com | दूसरी बात यह कि अगर आप की वेबसाइट भविष्य में ज्यादा बड़ी हो जाती है | ज्यादा ट्रैफिक आने लगता है तो आप को मैनेज करने में थोड़ी बहुत समस्याएं हो सकती हैं | क्योंकि यह फ्री वेबसाइट होती है और यहां पर सारी चीजें आपके कंट्रोल में नहीं होती हैं | यहां पर आप सिर्फ अपने ब्लॉग को लिख सकते हैं | अपने वेबसाइट को थोड़ा बहुत कस्टमाइज भी कर सकते हैं |

निवेश वेबसाइट में अंतर

जिस तरह ब्लॉगर में आपको सारी चीजों का कंट्रोल आपके पास नहीं होता है | उसकी बिल्कुल उल्टे ही यहां पर आपको सारी चीजें अपने कंट्रोल में ही करने पड़ते हैं | यहां पर आप काफी अच्छी तरह से अपने थीम का कस्टमाइजेशन कर सकते हैं | आप एक नॉर्मल डोमिन ले सकते हैं |लेकिन इसके भी कुछ माइनस पॉइंट होते हैं अगर आप यहां पर वेबसाइट बनाना चाहते हैं | तो इसके लिए आपको सबसे पहले एक डोमेन खरीदना पड़ता है |

साथ ही साथ आपको होस्टिंग प्लान भी खरीदना पड़ता है | क्योंकि जिस तरह से यहां पर कस्टम प्लान मिलता है | उसी तरह से आपको सारी चीजें कस्टम ही करनी पड़ती है | आप जब यहां पर डोमेन और होस्टिंग खरीद लेते हैं, तब आपको वर्डप्रेस इंस्टॉल करना होता है | और उसके बाद से अपनी वेबसाइट की कैटेगरी और सरवर सेट करने के बाद | आप अपने सी पैनल में पहुंचते हैं | और उसके बाद आप अपनी वेबसाइट को मैनेज कर सकते हैं |

डोमेन नेम क्या है

जिस तरह से आप www.example.com सर्च करते हैं | तो इसमें आपका यू आर यल ही डोमेन नेम कहलाता है | जहां आपको ब्लॉगर में डोमेन नेम सिर्फ अपनी मर्जी के मुताबिक डालना होता है | यहीं पर आपको वर्डप्रेस के लिए सबसे पहले डोमेन नेम खरीदना होता है | डोमेन नेम खरीदने के लिए आप चाहे तो गो डैडी, namecheap और होस्टिंगर जैसी वेबसाइट से डोमेन नेम खरीद सकते हैं | इसके बाद अगर आप कस्टम डोमेन अपने ब्लॉगर में भी डालना चाहते हैं | तो इस डोमेन नेम का उपयोग आप दोनों तरह की वेबसाइट में कर सकते हैं |

होस्टिंग किसे कहते हैं

अगर आप ब्लॉगर की वेबसाइट पर ब्लॉग बनाते हैं | तो यहां पर आपको ना ही डोमेन नेम खरीदने की जरूरत होती है | ना ही कोई होस्टिंग प्लान लेने की जरूरत होती है | लेकिन आप वर्डप्रेस पर काम करते हैं | तो इसके लिए आपको डोमेन नेम खरीदने के साथ ही साथ होस्टिंग प्लान भी खरीदना पड़ता है | जिस तरह से आप जब घर बनाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले जमीन खरीदनी होती है | और उसके बाद आपको घर बनवाना होता है | लेकिन अगर ब्लॉगर की बात करें | तो यहां पर आपको जमीन यानी की होस्टिंग लेने की कोई जरूरत नहीं पड़ती है | आप यूं समझ लीजिए कि आपको होस्टिंग फ्री में गूगल प्रोवाइड करता है |

लेकिन यहीं पर जब आप वर्डप्रेस पर वेबसाइट बनाने के लिए होस्टिंग लेते हैं | तो आपको जिस तरह से भाड़े के मकान में रेंट देना पड़ता है | उसी तरह से आपको यहां पर काम करने के लिए जगह दे दी जाती है | जिस पर कि आप अपनी वेबसाइट बनाते हैं | जिसके लिए आप को हर महीने कुछ ना कुछ चार्ज देने पड़ते हैं | लेकिन जब आप होस्टिंग प्लान लेते हैं | तो आप चाहें तो मंथली या फिर एनुअल प्लान ले सकते हैं | और जब तक आपके प्लान की वैलिडिटी रहती है | तब तक आप काम कर सकते हैं | लेकिन जैसे ही आपके प्लान की वैलिडिटी खत्म होती है | आपको फिर से फीस देनी होती हैं | और उसके बाद आप की वैलिडिटी फिर से बढ़ जाती है | और आप कंटिन्यू काम कर सकते हैं | यह चीजें डोमेन और होस्टिंग दोनों में लागू होती हैं |

ब्लॉगिंग करने से क्या फायदे हैं

अगर आप एक राइटर है, या फिर आपको लिखने का शौक है | आप अपने एक्सपीरियंस को, अपनी कहानी को लोगों के साथ शेयर करना चाहते हैं | तो आप एक ब्लॉगिंग वेबसाइट शुरू कर सकते हैं | और आसानी से लोगों तक अपनी जानकारी | अपने एक्सपीरियंस को शेयर कर सकते हैं | और लोगों की मदद भी कर सकते हैं |

निष्कर्ष

अगर आप ब्लॉगिंग शुरू करना चाहते हैं | आप इस चीज को लेकर कि कंफ्यूज है कि ब्लॉग कैसे चालू करें | आपको ब्लॉगिंग में शुरुआत करने के लिए | वर्डप्रेस में जाना चाहिए या फिर ब्लॉगर में जाना चाहिए | तो यह जानकारी आपके लिए काफी महत्वपूर्ण हो सकती है | आपकी काफी मदद भी कर सकती है आपके फैसले को निर्णय लेने के लिए | और आप काफी आसानी से चुन सकते हैं | कि आप वर्डप्रेस पर काम करना चाहते हैं या फिर ब्लॉगर पर | उम्मीद है या जानकारी (ब्लॉग को गूगल पर कैसे चालू करें) आपको पसंद आई होगी | अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमसे पूछ सकते हैं | या फिर अगर आपकी कोई राय है, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं | धन्यवाद |

Leave a Comment