YouTube Checklist: Topic Ideas Niche

आज की पोस्ट में हम जानेंगे चेक लिस्ट के बारे में |
अगर आप अपना एक युटुब चैनल खोलना चाहते हैं |
अगर आप अपना कंटेंट क्रिएट करना चाहते हैं | या फिर का इस्तेमाल करके
आप वीडियो मार्केटिंग करना चाहते हैं | चाहे वह खुद के लिए हो, या फिर किसी क्लाइंट के लिए |
तो अगर आप एक नया चालू करना चाहते हैं |
तो उसके लिए आपकी चेक लिस्ट क्या होगी |
या फिर वह कौन सी चीजें हैं | जो आपको शुरुआती समय में जरूरत होगी |
इन सारी चीजों को अच्छी तरह से समझने के बाद |
और इन सारी चीजों को इकट्ठा करने के बाद |
आप एक अपना नया यूट्यूब चैनल चालू कर पाएंगे | और अच्छी ग्रोथ का पाएंगे |
तो चलिए जानते हैं के बारे में |

YouTube Checklist | अपना niche चुनें

आपको यूट्यूब चैनल स्टार्ट करने से पहले, जो सबसे पहली चीज जाती है, वह है आपका नीच |
अब यहां पर सवाल आता है कि, नीच क्या होता है | नीच का मतलब यह होता है कि,
आप किस जोनरे में, किस सब्जेक्ट पर | आप वीडियो बनाना चाहते हैं |
सरल भाषा में कहें नीच का मतलब यही होता है कि,
आप किस सब्जेक्ट के ऊपर वीडियो बनाना चाहते हैं |
इसलिए सबसे पहले आपको यह जानना जरूरी है | यह समझना जरूरी है,
कि आप किस सब्जेक्ट के ऊपर वीडियो बनाना चाहते हैं |
जैसे कि आप किसी फूड के ऊपर वीडियो बनाना चाहते हैं |
या फिर कोई टेक्नोलॉजी से रिलेटेड वीडियो बनाना चाहते हैं |
या फिर कोई गाने से रिलेटेड वीडियो बनाना चाहते हैं |
तो सबसे पहले आपको यह फाइंड करना होगा कि, आपका नीच क्या होना चाहिए |

या फिर आप कोई फैशन रिलेटेड वीडियो बनाना चाहते हैं |
या फिर आप कोई स्टाइल रिलेटेड वीडियो बनाना चाहते हैं |
या फिर आप कोई product review का वीडियो बनाना चाहते हैं |
इसी तरह के बहुत सारे सब्जेक्ट है, जिन सब्जेक्ट के ऊपर आप वीडियो बनाना चाहते हैं |
पहले उस सब्जेक्ट को, उस नीच को ढूंढना होगा |

YouTube Checklist | Create

जब आप अपना नीच सेलेक्ट कर लेते हैं | तो यहां पर दूसरे नंबर पर आता है,
हमारे यूट्यूब चैनल को क्रिएट करना | अब यूट्यूब चैनल को क्रिएट करने के लिए,
क्या चीजें जरूरी है | बहुत ही बेसिक चीजें, मैं आपको बता देता हूं |
जिससे कि आप को समझने में काफी आसानी होगी | अपने youtube channel को स्टार्ट करने के लिए |
सिर्फ एक ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर के द्वारा, अपना चैनल बना सकते हैं |
आप सिर्फ अपनी एक ईमेल के द्वारा ( जिसको आप लोग जीमेल के नाम से भी जानते हैं)
अपना यूट्यूब अकाउंट बना सकते हैं | और अपने फोन नंबर के द्वारा,
अपने यूट्यूब चैनल को वेरीफाई भी करवा सकते हैं |

साथ ही साथ आपको एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन |
और वीडियो एडिट करने के लिए एक अच्छा सॉफ्टवेयर होना चाहिए |
अगर आपके पास कंप्यूटर या लैपटॉप है, तो अच्छी बात है |
अगर नहीं भी है तो आप अपने मोबाइल के द्वारा भी, अपने यूट्यूब चैनल को मैनेज कर सकते हैं |

YouTube Checklist | Branding your acount

जब आप अपना यूट्यूब चैनल बना लेते हैं | तो चैनल बनाने के बाद,
सबसे पहले आपको ब्रांडिंग के ध्यान देना चाहिए | क्योंकि एक समय के बाद,
अगर आप का चैनल काफी अच्छी तरह से चलने लगता है |
आपका चैनल काफी पॉपुलर हो जाता है |
तो आप भी यही चाहेंगे कि लोग आपको आपके नाम से जाने |
इसलिए आपको अपने चैनल का ब्रांडिंग जरूर करना चाहिए |
और चैनल का ब्रांडिंग करने के लिए कौन-कौन सी चीजें जरूरी है, यह जान लेते हैं |

आपको अपने चैनल का ब्रांडिंग करने के लिए एक लोगो, एक चैनल आर्ट,
और एक चैनल का बैनर बहुत जरूरी होता है |
जिससे कि जब लोग आपके चैनल पर आते हैं |
आपके चैनल का ब्रांडिंग देख कर के ही, बहुत सारी चीजें साफ हो जाती हैं |
कि आपका चैनल, आपके ऑडियंस को किस सब्जेक्ट पर |
या किस टॉपिक पर वीडियो देने वाला है |
इसलिए आपको अपने चैनल की ब्रांडिंग जरूर करनी चाहिए |
अगर आप अपने चैनल को, अपनी कंपनी के लिए इस्तेमाल करना चाहते हैं |
या फिर अगर आप यह चाहते हैं, कि आपके चैनल का ब्रांड |
लोगों के दिमाग पर ज्यादा लंबे समय तक रहे |
लोग खाली आपको, आपके ब्रांड के नाम से पहचाने |
तो आपको अपने चैनल को ब्रांड जरूर बनाना चाहिए |

YouTube Checklist | Account Optimisation

जब आप अपने चैनल का ब्रांडिंग कर लेते हैं |
तो आपको अपने अकाउंट का Optimisation जरूर करना चाहिए |
जो कि आपके लिए बहुत ही जरूरी होता है | अगर आप चाहते हैं,
कि आपका चैनल काफी तेजी से ग्रो करें | आपके चैनल की ग्रोथ,
जल्दी से जल्दी हो | तो आपको अपने अकाउंट का ऑप्टिमाइजेशन जरूर करना चाहिए |
आपके चैनल को या फिर, आपकी वीडियो को सर्च रिजल्ट में आने के लिए |
सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का, जरूर ध्यान देना चाहिए |
इसके अंदर बहुत सारी चीजें आती हैं | जैसे कि आपके चैनल का कीवर्ड,
आपके चैनल का टैग, अपने किसी दूसरे चैनल को लिंक करना,
अपने चैनल का डिस्क्रिप्शन लिखना | और अपने वेबसाइट को,
या फिर अपने और सोशल मीडिया नेटवर्क को, अपने यूट्यूब चैनल से अटैच करना आदि |

YouTube Checklist | टॉपिक रिसर्च

हालांकि हो सकता है कि, आप इस टॉपिक पर थोड़े से कंफ्यूज हो जाएं |
लेकिन यहां पर आपको कंफ्यूज बिल्कुल नहीं होना है |
बहुत सारे लोग यह सोचते हैं, की नीच और टॉपिक में क्या अंतर होता है?
तो आपकी जानकारी के लिए बता दें- मान लीजिए कि आप एजुकेशन के नीच पर,
वीडियो बनाना चाहते हैं | लेकिन उस एजुकेशन की नीच के अंदर,
आप किसी एक particular subject के ऊपर, वीडियो बनाना चाहते हैं |

आप उसे डिटेल में समझाना चाहते हैं, आप उसकी एक पूरी स्टोरी क्रिएट करना चाहते हैं |
आप उसको पार्ट बाय पार्ट लोगों के सामने दिखाना चाहते हैं | तो यह आपका टॉपिक होता है |
इसलिए जब भी आप अपने चैनल का नीच सेलेक्ट कर लेते हैं |
तो नीच सेलेक्ट करने के बाद, आपको टॉपिक का रिसर्च जरूर करना चाहिए |
कि आप कौन से टॉपिक पर वीडियो बनाने वाले हैं | और यह बहुत ही जरूरी होता है,
आपके चैनल को एक ब्रांड बनाने के लिए | और आपके चैनल को ग्रो करने के लिए |
इसलिए आपको वीडियो बनाने से पहले, टॉपिक रिसर्च जरूर करना चाहिए |

हालांकि टॉपिक रिसर्च करते समय, आपको यह भी ध्यान देना बहुत जरूरी है |
कि आप जिस टॉपिक पर वीडियो बनाने वाले हैं |
उस टॉपिक पर कितनी वीडियो पहले से बन चुकी हैं | और कितना ट्रेंडिंग टॉपिक है |
और इस टॉपिक के ऊपर कितना कंपटीशन है |
और आपको हमेशा कम कंपटीशन वाले टॉपिक, पर ही वीडियो बनाना चाहिए |
क्योंकि अगर आपका चैनल नया है, और आप ज्यादा कंपटीशन वाले टॉपिक पर वीडियो बनाते हैं |
तो आपके चैनल की ग्रोथ के लिए समस्या हो सकती है |

YouTube Checklist | इक्विपमेंट

अगर आपने अपने टॉपिक का रिसर्च कर लिया | और उसके बाद,
अब आप वीडियो बनाना स्टार्ट करना चाहते हैं |
तो इसके लिए आपको कुछ इक्विपमेंट की भी जरूरत होगी |
जो कि बहुत जरूरी है |  जैसे कि आप जिस तरह की वीडियो बनाने वाले हैं |
अगर आप फेस की वीडियो बनाने वाले हैं, तो आपके लिए जिन-जिन चीजों की जरूरत होंगी |
उस उस इक्विपमेंट को ध्यान में रखना, बहुत जरूरी है | जैसे कैमरा, लाइट, स्टैंड और लोकेशन |
यह सारी चीजें बहुत जरूरी है | इसलिए आपको अपनी वीडियो को स्टार्ट करने से पहले |
इन सारी इक्विपमेंट को जुटाना बहुत जरूरी है |
इसलिए आप जब भी वीडियो बनाना स्टार्ट करते हैं |
तो वीडियो बनाने से पहले इन सारे इक्विपमेंट का ध्यान देना चाहिए |

Content creating and calendering

जब आप इन सारे इक्विपमेंट को इकट्ठा कर लेते हैं | इसके बाद आता है,
आपका कंटेंट क्रिएटिंग |  जब आप कंटेंट क्रिएटिंग करना चाहते हैं |
आपने अपना टॉपिक रिसर्च कर लिया, आपने अपना कीवर्ड रिसर्च कर लिया |
इसके बाद आपको कंटेंट क्रिएटिंग पर ध्यान देना है |

लेकिन आपको कंटेंट क्रिएट करने से पहले | आपको स्क्रिप्ट भी लिखना होगा |
आप जिस कंटेंट को बनाने वाले हैं, उस कंटेंट में आप किन-किन चीजों को डिस्कस करने वाले हैं |
और जिस कीवर्ड पर आप वीडियो बना रहे हैं |
उसकी वर्ड के अंदर कौन-कौन से ऐसे पॉइंट है, जिन पॉइंट पर आप बात करने वाले हैं |
आपको उन सारी पॉइंट को, एक स्क्रिप्ट में लिख कर रखना होगा |
कि आप कौन से पॉइंट पर कब बात करने वाले हैं |

आप स्टार्टिंग में इन्ट्रो रखना चाहते हैं, उसके बाद आप अपनी वीडियो के अंदर क्या बताने वाले हैं |
और उसके बाद जिस टॉपिक पर आप वीडियो बना रहे हैं |
उनके जो-जो पॉइंट है, उन पॉइंट पर बात करनी है |
साथ ही साथ आपको टाइम मैनेजमेंट भी करना होगा | यानी कि कैलेंडरिंग |
जैसे कि आप 1 जनवरी से वीडियो बनाने वाले हैं |
तो आप अपनी वीडियो को 1 दिन में रोज अपलोड करने वाले हैं,
या फिर हफ्ते में सिर्फ एक वीडियो अपलोड करने वाले हैं |
इस चीज का खास ध्यान देना होगा | तभी आप अपने ऑडियंस को एक्टिव रख सकते हैं |
इसलिए कैलेंडरिंग भी बहुत जरूरी है | और आपको हमेशा इसका ध्यान देना चाहिए |

YouTube Checklist | Knowledge input tool

मान लीजिए कि आपने अपना नीच सलेक्ट कर लिया |
आपने अपना टॉपिक सलेक्ट कर लिया | आपने कंटेंट भी बना लिया,
उसके बाद आपने कंटेंट को अपलोड भी कर दिया |
लेकिन इन सारी चीजों को करने के बाद, आपको कुछ टूल्स की जरूरत होगी |
यह जानने के लिए कि आपका चैनल किस तरह से ग्रो कर रहा है |
आपके चैनल पर कौन सा कीवर्ड रैंक कर रहा है | आपके चैनल की वीडियो कैसी चल रही है |

और आपकी जो कंप्टीटर हैं, वह क्या कर रहे हैं |
वह किस कीवर्ड के ऊपर काम कर रहे हैं |
और वह आप से कितना आगे हैं | इन सारी चीजों को जानने के लिए,
कुछ टूल्स की भी जरूरत होगी | कुछ एप्लीकेशन की जरूरत होगी |
जो कि आपको समय-समय पर यह जानकारी देते रहेंगे |
कि आपको कि की वर्ड के ऊपर कंटेंट बनाना चाहिए |
और आप के YouTube Channel की ग्रोथ कितनी तेज हो रही है |
उदाहरण के लिए आप चाहे तो- tube buddy, vidiq और social blade
जैसे एप्लीकेशन का भी इस्तेमाल कर के | यह सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं |

आप चाहे तो अपने टॉपिक से रिलेटेड कीवर्ड के लिए, गूगल ट्रेंड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं |
जहां से आपको आसानी से यह पता चल जाता है | कि आजकल ट्रेंड में क्या चल रहा है |
कौन सा टॉपिक ट्रेनिंग में है, और आपको किस टॉपिक पर वीडियो बनाना चाहिए |
हालांकि यह फीचर आपके लिए बहुत ही जरूरी है |
इसलिए आपको गूगल ट्रेंड का इस्तेमाल करना चाहिए |

कंसिस्टेंसी एंड रेलीवेंसी

अगर आप यह चाहते हैं कि, लोग आपको लंबे समय तक याद रखें |
लोग आपके यूट्यूब  चैनल पर ज्यादा से ज्यादा आएं, और आपके चैनल का ज्यादा से ज्यादा ग्रोथ हो |
तो इसके लिए आपको कंसिस्टेंट रहना पड़ेगा |
आपको टाइम पर वीडियो अपलोड करनी होंगी | आपको अपनी ऑडियंस से हमेशा इंगेज रहना पड़ेगा |
अगर आप हफ्ते में सिर्फ एक वीडियो डाल रहे हैं, तो आपको लंबे समय तक |
जिस हफ्ते में आप जिस दिन, जिस टाइम पर, वीडियो अपलोड करते हैं,
वह अपलोड करना पड़ेगा | जिससे कि लोग आपके चैनल पर, ज्यादा से ज्यादा भरोसा करेंगे |

यहां पर रेलीवेंसी का मतलब यह है कि | मान लीजिए कि आप टेक्नोलॉजी से रिलेटेड,
कोई वीडियो बना रहे हैं | लेकिन आप जिस टॉपिक पर वीडियो बना रहे हैं |
उस टॉपिक का अगर ट्रेंड खत्म हो गया है | तो आपको नए टॉपिक पर वीडियो बनाना चाहिए |
क्योंकि अगर उसी टेक्नोलॉजी का, कोई लेटेस्ट मॉडल उपलब्ध है |
जो कि ट्रेंड में है, और आप किसी पुरानी टेक्नोलॉजी पर वीडियो बना रहे हैं |
तो ऐसे में आपके चैनल की ग्रोथ रुक जाएगी |
इसलिए आपको कॉन्टेंट की रेलीवेंसी कर ध्यान देना बहुत ही जरूरी है |

निष्कर्ष

आज की इस पोस्ट में हमने यूट्यूब चैनल से रिलेटेड,
जरूरी चीजें- YouTube Checklist: Topic, Ideas, Niche,Channel & Video Optimization |
YouTube SEO  के बारे में समझा | उम्मीद है, आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा |
अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो, इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें | धन्यवाद |

Leave a Comment